Saturday, 4 April 2015

यज्ञ का महत्व


यज्ञ का महत्व
 

ऋषियों द्वारा ईश्वरीय चिंतन में निरत जीवन पद्धति खोजी गई जिसमें यज्ञ से मानव मन में स्थापित वांछित लाभ पाया जा सकता है। इस विधि व्यवस्था को त्रिकाल संध्या के रूप में ऋषियों ने भी अपनाया और यज्ञ के अध्यात्म को अवतारी सत्ताओं ने भी स्वीकारा।


यज्ञं जनयन्त सूरयः। -ऋग्वेद 10/66/2
हे विद्वानों! संसार में यज्ञ का प्रचार करो।

अयं यज्ञो विश्वस्य भुवनस्य नाभिः। -अथर्ववेद 9.15.14
यह यज्ञ ही समस्त विश्व-ब्रह्मांड का मूल केंद्र है।

 
प्रांचं यज्ञं प्रणयता सखायः। -ऋग्वेद 10/101/2
प्रत्येक शुभकार्य को यज्ञ के साथ आरंभ करो।

सर्वा बाधा निवृत्यर्थं सर्वान्देवान्यजेद् बुधः। -शिवपुरा
सभी बाधाओं की निवृत्ति के लिए बुद्धिमान पुरुषों को देवताओं की यज्ञ के द्वारा पूजा करनी चाहिए।

यज्ञो वै श्रेष्ठतमं कर्म। -शतपथ ब्राह्मण 1.7.1.5
यज्ञ ही संसार का सर्वश्रेष्ठ शुभ कार्य है।तस्मात्सर्वगतं ब्रह्मा नित्यं यज्ञे प्रतिष्ठितम् -गीता 3.15
यज्ञ
में सर्वव्यापी सर्वांतर्यामी परमात्मा का सदैव वास होता है।

No comments:

Post a Comment